इंसान

नमाज़ी बनु या बनु मैं काफिर यह तू बता दे ओ खुदा,
बनकर सब देख लिया पर तु न मिला किसी जगह ।

सुनकर मेरी बात कहा खुदा ने मुझसे –

काफिर न बन , न बन नमाज़ी ओ मेरे रहनुमा
इंसान बन काफी है इतना मिल जाऊंगा में हर जगह।

-Aryan Suvada

6 thoughts on “इंसान

Leave A Comment