Humdard #8

Episode#8
जगह : रिया का होस्टल रूम

सुबह के 8:12 बजे

रिया अपने बेड से अंगड़ाई लेते हुए जागी और बैठ गई । अभी तक उसने अपनी आँखें नही खोली थी । फिर उसने अपने मुह पर हाथ फेरा और बेड से उतरी तभी उसकी नजर डोअर पर पड़ी जिसपर हाल में एक चॉकलेट का डिब्बा पड़ा था । रिया ने उसे गुस्से में उठाया और फेकने ही वाली थी कि तभी निधि वहां पर आ गई और उसे रोकते हुए बोली –

” रिया वो मेरा चॉकलेट बॉक्स है ।”

रिया वही रुक गई । निधि ने उसके हाथ में से बॉक्स ले लिया । रिया उठी और बालकनी मैं दौड़कर गई । पर कैंपस सामान्य ही था । रिया ने फिर निधि को देखा । वो दुल्हन के ड्रेस में थी । उसने कहा –

” यह क्या पहना है तुमने ? ”

” ओए आज शादी है मेरी ।भूल गई क्या तू ?”

“ओह हा ! सॉरी दिमाग से निकल गया था । ”

“जल्दी तैयार हो जा मंदिर जाना है । अजय राज को लेकर वहां पहोचता ही होगा । ”

रिया अजय का नाम सुनकर एक पल के लिए रुक गई । फिर वह बाथरूम में चली गई । रिया तैयार हुई । उसने आज चोली पहनी थी । रिया और निधि जब सीढ़ियों से उतर रही थी तब उसकी बगल से कुछ लड़कियां गुजरी । अचानक रिया की नजर उन लड़कियों के हाथ पर पड़ी । उनके हाथ में चॉकलेट बॉक्स था जिसपर टैग लगा हुआ था ‘ हैप्पी चॉकलेट डे फ्रॉम अजय चौहान ‘ रिया ने उन लड़कियों को रोका और कहा –

” पायल यह चॉकलेट बॉक्स….।”

पायल ने रिया की बात काटते हुए बोली

” तुजे भी मिला ना ? किसी अजय नाम के लड़के ने पूरी होस्टल में सभी लड़कियों को चॉक्लेट बॉक्सेस गिफ्ट किए ।”

रिया वहां से बिना कुछ कहे होस्टल से बहार निकल गई । निधि भी पीछे पीछे आई । होस्टल से बहार आते ही उन्होंने देखा अजय ने दोनों के लिए अपनी कार भेजी थी । दोनों कार में बैठी । निधि ने देखा कि रिया का चेहरा उतरा हुआ था । उसने रिया से कहा –

” क्या हुआ ? ”

” कुछ नही । ”

” झूट बोलना हो तो पहले अपने चेहरे को जुठ बोलना सीखा दो ताकि लोग तुम्हारे जुठ को न पकड़ सके । ”

” अजय ने पूरी होस्टल की लड़कियों को चॉकलेट बाटी सिर्फ तुजे और मुझे ही उसने चॉकलेट बॉक्स नही दिया । पूरे दिन वो मुझे परेशान करता है और चॉकलेट किसी और को दे रहा है।”

” रिया ! अजय ने सिर्फ तुम्हे ही चॉकलेट बॉक्स नही दिया। आज सुबह तु जो चॉकलेट बॉक्स मुझपर फेकने जा रही थी वो अजय ने ही मुझे गिफ्ट किया हुआ है ।”

” व्हाट ? तू मेरी दोस्त है या उसकी ? तू वह गिफ्ट कैसे ले सकती है । ”

“में दोनों की दोस्त हु । ”

■■■■■■■■■■■■■■★★★■■■■■■■■■■

जगह : मैरिज हॉल

कार से उतरते ही निधि की नजर सामने खड़े उसके माता- पिता पर गई । वह दौड़कर अपने पिता के गले लग गई । रिया कार से उतरी और उन तीनो के पास आई । निधि अपने अभिभावकों से कह रही थी।

” मुझे तो लगा था कि आप दोनों आएंगे ही नही ।”

“आते कैसे नई भई राज हमे खुद लेने जो आया था और वैसे भी हमने भी तो भागकर शादी की थी तो हमे कौनसा ऐतराज था तुम्हारी शादी से बल्कि हमे तो गर्व है कि हमारी बेटी भी लव मैरिज कर रही है । ”

निधि यह सुनते ही अपने मम्मी पप्पा के गले लग गई । सब मेर्रिज हॉल में दाखिल हुए । निधि और राज के माता पिता और उनके करीबी रिश्तेदारों और दोस्तो को ही बुलाया गया था । रिया की नजरें अजय को ही ढूंढ रही थी पर अजय कही दिख नही रहा था । तभी जिग्नेश रिया के पास से गुजरा । रिया ने उसे रोका और अजय के बारे में पूछा तो उसने बताया कि अजय हॉल के रूम नम्बर 31 में है। रिया उस रूम की तरफ जाने लगी ।

■■■

राधिका अजय को आधे घंटे से टाइ पहना रही थी पर टाइ बन्द ही नही रही थी । राधिका ने एक और बार कोशिश की पर नाकाम रही । उसने हार मानते हुए अजय से कहा –

“अजु तू खुद ही बांध लें । ”

” दी मुझे टाइ बांधना नही आता इस लिए आपसे कहा ।”

“तो ढंग की टाइ लानी थी । आधे घंटे से बांध रही हु बन्ध ही नही रही , मुझे तैयार भी होना है ।”

“सुबह से तो तैयार हो रही है , मानो तू ही दुल्हन है । अब मेकअप लगाया तो पक्का चुड़ैल लगेगी । ”

“ओके फाइन ! तो अब अपने आप ही टाइ पहन लें। ”

राधिका गुस्सा होते हुए उस रूमसे बहार जाने के लिए दरवाजा खोला तो दरवाजे के उस पार रिया खड़ी थी।रिया ने राधिका को हाई कहा राधिका ने कहा-

” हाई रिया आपके बॉयफ्रेंड अजय को टाइ बांधना नही आता तो प्लीज उसे टाइ पहना देना ।”

राधिका कमरे से से बाहर चली गई । रिया का नाम सुनते ही अजय ने मुड़कर देखा तो रिया को देखता ही रहा । उसका दिल जोरो से दस्तक देने लगा । रिया की खूबसूरती पर चोली चार चांद लगा रही थी। रिया ने उससे कहा –

” ऐसे क्या देख रहे हो ? ”

अजय को एहसास हुआ कि वह एकटक उसे देख रहा है , उसने तुरंत अपनी नजर फिरा ली और कहा –

” हिंदुस्तानी लिबास में लोग और ज्यादा खूबसूरत दिखने लगते है , पता नही लोग इसे ओल्ड फैशन क्यो कहते है ? ”

“शायद वे लोग फ़ैशन के बारे में कुछ जानते ही न हो ।”

अजय मुस्कुराता है ओर वे अपनी टाइ के तरफ देखता है और कहता है –

“लोग मुझे द ग्रेट अजय चौहान कहते है पर मुझे टाइ बांधना तक नही आता।

रिया उसके करीब आई और उसके हाथों में से टाइ ले ली और अजय को पहनाते हुए कहा –

” तुम सबकुछ नही कर सकते । और ना ही तुम सबकुछ बदल सकते हो । ”

रिया क्या कहना चाहती है यह अजय समझ गया था पर वह चुप रहा । रिया ने टाइ पिन में डालने के बदले अजय को मार दी । अजय एकदम सिसक उठा और रिया उसी वक्त बोली –

” सबको चॉकलेट बॉक्स देना और मुझे ही नही देने के पीछे कोनसी वजह है , यह में जान सकती हूं ? ”

“इस के लिए टाइ पिन मारने की क्या जरूरत थी सीधे पूछती तो भी बताता ”

” तो बताओ । ”

अजय ने मुस्कुराते हुए कहा –

” में देख रहा था की तुम्हे फर्क पड़ता है कि नही ( अजय रिया ने टाइ पिन जहा मारी थी वह जगह दिखाते हुए कहा ) बल्कि जलन तक होती है । जलन जितनी ज्यादा हो प्यार उतना ही ज्यादा बढ़ता है । ”

रिया ने नकारते हुए कहा –

“में तुमसे कोई प्यार व्यार नही करती में बस तुमसे नफरत करती हूं । ”

” मेरी माँ कहती थी कि तुम दूसरे से कितना भी जुठ बोलो कोई फर्क नही पड़ता पर खुदसे कभी भी जुठ नही बोलना चाहिए । ”

अजय ने यह कहकर अपना मोबाईल निकाला और उसमें से म्यूजिक प्लेयर पर एक गीत चला दिया । रिया ने अजय की बातों का जवाब देते हुए कहा –

” में तुमसे सच मे प्यार नही करती हूं । ”

अजय रिया की बात अनसुना करते संगीत की धुन पर थिरकने लगता है । रिया यह देख चिडती है पर बिना कुछ कहे जाने लगती है तभी अजय उसका पकड़ता और उसे अपनी तरफ खिंचता है । रिया उसकी बाहो मैं आ गिरती है , अजय उसे संभालता है और फिर पीछे बज रहे संगीत पर रिया के साथ कपल डांस करने लगता है। रिया ने अजय को रोकने के लिए मुह खोला ही था कि तभी अजय ने रिया के होठों पर उंगली रख दी और कहा –

“फील द म्यूजिक ”

अजय और रिया डांस करने लगे । रिया को डांस करना नही आता था इस लिए वह लड़खड़ाती है पर अजय ने उसे संभाला । रिया हर डांस स्टेप पर लड़खड़ा रही थी पर हर बार अजय उसे संभाल लेता था । अजय ने रिया से कहा –

” तुम बिल्कुल सही थी हम सबकुछ नही कर सकते है । हम में कुछ न कुछ कमियां जरूर होती है और कभी कभी इन्ही कमियों के ही कारण हम जिंदगी में लडखडाते है पर तभी हमे संभालने के लिए कोई न कोई हाथ हमारी तरफ बढ़ा हुआ होता है जो हमे गिरने नही देता। में चाहता हु की जब भी में लड़खडाऊ तब मुझे संभालने के लिए जो हाथ बढ़े वो तुम्हारा हो और जब तुम लड़खड़ाओ तब तुम्हे संभालने के लिए में हमेशा तुम्हारे साथ रहु। ”

अजय और रिया डांस करते करते रुक गए । रिया सबकुछ भूल सी गई थी । अजय अपने होठों को रिया के होठों के करीब ले गया । दोनो के चेहरे इतने करीब थे कि दोनों की सासो की गर्माहट एक दूसरे को महसूस हो रही थी । रिया ने अपनी आँखे बंद कर ली जैसे वो चाहती हो कि अजय के होंठ उसके होठो को छुए , तभी अजय ने कहा –

” अगर तुम मुझसे नफरत करती तो तुम मुझे अपने होठो को चूमने नही देती और न ही इतने करीब आने देती , बल्कि मुझे धक्का देकर खुदसे अलग करती ।”

यह सुन रिया को एहसास हुआ कि वो क्या करने जा रही थी । उसे एकाएक गुस्सा आया और उसने तुरंत अजय को जोरसे धक्का दिया और अपने से दूर किया ।अजय यह देख हस पड़ा । रीया वहां से जाने लगी। फिर वह एकाएक रुकी और अजय की तरफ देखकर बोली –

“में चाहती हु की हमारे बीच जो शर्त है वह हम खत्म कर दे , बदले मैं तुम जो चाहते हो वो में तुम्हे देने के लिए तैयार हूं पर उसके बाद तुम मुझे अपना चेहरा कभी नही दिखाओगे। ”

“तुम कहना क्या चाहती हो ?”

रिया ने अपने ब्लाउज की रस्सी खिंची और ब्लाउज जमीन पर गिर गया रिया ने कहा –

“यही चाहते थे न तुम । ”

अजय के चेहरे पर कोई भाव नही थे। वह उसके पास आया और मुस्कुराया । तभी उसने रिया के गाल पर जोर से थप्पड़ मारा । रिया गिर पड़ी और उसके होठो से खून बहने लगा । अजय ने अपना ब्लेजर उसपर फेका । रिया के होठो से खून निकलता देख उसने डोअर में से फर्स्ट एड्स बॉक्स निकाला और रिया को उठाकर एक चेयर पर बिठाया और बॉक्स में से कॉटन निकालकर रिया के होठो से खून साफ करने लगा । रिया अजय के चेहरे पर साफ साफ गुस्सा देख पा रही थी। अजय को रिया ने इस तरह गुस्सा होते हुए पहले कभी नही देखा था। तभी अजय ने कहा –

क्या तुम्हें यह लगता है कि मैं तुम्हारे जिस्म को पाने के लिए यह सब कर रहा हु । दुनिया में तुम्हारे से भी ज्यादा खूबसूरत जिस्म है। यहां तक कि बाजारों में भी बिकते है , पर में जिस्म का भूखा नही बल्कि मैं तुमसे प्यार करता हूं। तुम्हारे जिस्म से नही तुम्हे देखकर ही में तुमसे प्यार कर बैठा । पर में सिर्फ इस लिए प्यार नही करना चाहता कि तुम खूबसूरत हो। जो लोग सिर्फ खूबसूरती के कारण प्यार करते है न खूबसूरती के ढलने के साथ साथ उनका प्यार भी खत्म हो जाता है , पर में चाहता हु की में अपनी आखरी सास तक तुमसे प्यार करू । इस लिए मैं तुमसे प्यार करता हु में सब बर्दास्त कर सकता हु पर मेरी मोहब्बत को कोई गाली दे यह में बर्दास्त नही कर सकता । इतना भी मत गिरो की तुम्हारे लिए मेरा प्यार नफरत में तब्दील हो जाए ।”

अजय उठा और बाहर जाने लगा तभी वह रुका और बोला –

“तुम यही चाहती हो न कि यह शर्त खत्म हो जाए तो यही सही , अब हमारे बीच कोई शर्त नही है । आज से अभी से मैं तुम्हारी जिंदगी से दूर चला जाऊंगा । ”

यह कहकर अजय रूम से बहार निकल गया और रिया के आखो मैं आंसू थे और उसके कानो में एक ही आवाज गूंज रही थी…

“में तुम्हारे जिस्म से नही तुमसे प्यार करता हु ।”

( क्रमशः )

Aryan suvada

4 thoughts on “Humdard #8

Leave A Comment