इंतजार

तेरी यादों के अफसानों में चल रहे कही

मेरे यादों के मंजर

तस्वीरों में डूबी यह आँखे

तलाशती रहती है उस चेहरे को कही

अश्क बहते रहते है इल्तज़ा यही

जो बस्ता है इन आखो में मिल जाए कही

मानते है एकतरफा है प्यार हमारा

कभी इकरार न हुआ यह कसूर हमारा

काश की वो भी हमारे तलाश में हो

जिसे हम ढूंढते फिरते दरबदर यू ही

आके महका दे इस सुनी जिंदगी को वो

जिसके इंतजार में यह दिल धडक रहा युही

– Sia

4 thoughts on “इंतजार

Leave A Comment