जालिम

तुजसे दूर होकर भी तेरे पास है हम

दिल से तेरे साथ है हम

कभी सोचा न था की यह जन्नत हमारे नसीब होगी

हमारी किस्मत भी इतनी अच्छी होगी

तुमसे लड़ते लड़ते प्यार किया

जगड़कर इकरार किया

पल भर में रूठ जाना

पल भर मैं मान जाना

माना कि परेशान करते है बड़े जालिम है हम

पर प्यार भी तो बेसुमार करते है हम

– Sia

2 thoughts on “जालिम

Leave A Comment