बाकी है !

लूट चुका है शहर मेरा

अब क्या जीना बाकी है ।

टूट चुका हूं इस कदर में

अब मौत आना बाकी है ।

झख़्म इतने गहरे है कि

नासूर बनना बाकी है ।

ठुकराया है खुदा ने भी मुझको

अब काफ़िर बनना बाकी है ।

कहने को बहुत कुछ है

पर वक़्त कहा बाकी है ।

पत्थर बन चुका हूं अब तो

बस मंदिर बनना बाकी है ।

– Aryan suvada

6 thoughts on “बाकी है !

Leave A Comment