मजहब

इश्क़ का मजहब क्या यह बता दे ओ खुदा

बट चुका है तू भी कही अब इश्क़ की क्या खता

– Aryan suvada

2 thoughts on “मजहब

Leave A Comment