Humdard #6

Episode#6

जगह : रिया का हॉस्टल

समय : सुबह 9 बजे

रिया बेड पर सो रही थी। उसने लेफ्ट साइड घूमी तभी उसकी नजर डोअर पर गई ,वहा पर एक खत पड़ा था और उस पर एक गुलाब था । रिया जानती थी कि वह खत किसने भेजा था । उसने अपना चेहरा तकिये पर गुस्से से दबाया ,फिर वह गुस्से से उठी और उस खत और गुलाब उठाया और फेकने ही वाली थी कि एकाएक वह रुक गई और न चाहते हुए भी वह उस खत को खोला और वह उसे पढ़ने लगी । उसमें लिखा था –

गुड मॉर्निंग डिअर ,

तुम्हे मालूम है तुम्हारे मासूम से चेहरे पर गुस्सा तुम्हे और ज्यादा खूबसूरत बना देता है । जो हाल में तुम दिख रही होगी । मेरी हर सुबह और शाम तेरे चेहरे की मुस्कुराहट से हो यही चाहता हु में , तुम्हारे होठो से छुए हुए कप से तुम्हारी जुठी कॉफी पीना चाहता हु छोटी छोटी बातों पर तुमसे झगड़ना चाहता हु और तुम रूठो तो तुम्हे मनाना चाहता हु । मेरे हर एक खास पलो को तुम्हारे साथ शेयर करना चाहता हु । क्या तुम अपने खास पल मेरे साथ शेयर करना चाहोगी ? आई लव यू एंड हैप्पी प्रोपोज़ डे ।

रिया ने कागज को फाड़कर फेक दिया तभी दरवाजा खुला और निधि ने रूम में प्रवेश करते हुए रिया को हाई कहा । रिया ने भी उसका जवाब दिया । कुछ पल उस रूम शांति रही फिर रिया बोली –

” राज मान गया क्या ?”

“हा मना लिया । ”

निधि मुस्कुरा रही थी ।

” कैसे ? ”

“वो अपनी गर्लफ्रैंड को दुख में भागीदार नही बनाना चाहता पर अपनी बीवी को तो बनाएगा इसलिए बस मैंने उसे शादी के लिए प्रोपोज़ कर दिया । ”

“शादी के लिए और वो भी तूने? ”

हा वैसे भी हम 5 साल से रिलेशनशिप में थे तो अब बस रिश्ते को एक नया नाम देना का वक़्त आ गया है।

“तुम्हारे मोम डैड मान गए ? ”

“हा वैसे भी मेरे मोम डैड ने लव मैरिज की थी तो मुझे उनसे कोई परेशानी होनेवाली नही थी और अब जल्दी से तैयार हो जा शॉपिंग पर चलना है । ”

” शॉपिंग ? ”

“हा ! अब शादी हो रही है तो शॉपिंग तो बनती है ना। ”

“हम्म कब है शादी ?

“कल कोर्ट में रजिस्टर मैरिज कर रहे है। जब राज की परेशानी खत्म हो जाएगी तब धाम धूम से शादी करूँगी फिरसे । अब के .बी. सी ही खेलती रहेगी या तैयार होने जाएगी अब हम लेट हो रहे है । ”

रिया उठकर बाथरूम में चली गई।

■■■■■■■■■■■■★★★■■■■■■■■■■■■■■■

जगह : शॉपिंग मॉल

समय : 11 बजे

” दीदी आपका छोटा भाई हु कोई कुली नही जो इतने सारे बैग दे दिये । ”

अजय ने शिकायत भरे लहजे में कहा। उसने 5 -6 बेग उठाये हुए थे तभी राधिका ने एक और बैग उसको पकड़ाते हुए बोली –

” किसने कहा था चैस में शर्त लगाने को अब हार गए तो भुगतो । ”

” डैटस नॉट फेयर आपने चीटिंग की थी ।”

“मारूंगी एक तो खेलना आता नही है तो खेलता क्यो है ?अब चुपचाप कुली बन और सामान उठाओ ।”

” मुझे रिया से मिलने जाना है ।”

“बाद में चले जाना ।”

राधिका ने अपने भाई के गाल खेचे और फिरसे शॉपिंग करने लगी । अजयने मायूस होकर कहा –

“में इन सब को कार में रख कर आता हूं ।”

अजय जैसे ही मूड़ा सामने रिया खड़ी थी । अजय उसे देख मुस्कुरा उठा और वह बोलने ही वाला था कि रिया ने उसके गाल पर जोर का थप्पड़ जड़ दिया । अजय ने जो बेग उठाए थे वो सारे नीचे गिर गए और उसके अंदर का सामान फर्श पर बिखर गया । अजय ने असमंजस में रिया के सामने देखा रिया ने कहा –

” तो यह है तुम्हारा प्यार । शाम मेरे साथ और सुबह किसी और के साथ कौन थी वो लड़की जो तुम्हारे गालो को खींच रही थी ? ”

” वो…..वो ”

अजय न जाने क्यों रिया के गुस्से के सामने हिचकिचा रहा था तभी रिया उसकी बात को काटते हुए गुस्से मैं बोली –

” तुम सब लड़के एक जैसे ही होते हो बस तुम लोगो को लड़कियों के साथ टाइम पास ही करना होता है , उस टाइम पास को प्यार का नाम देते हो और जो चीज होती ही नही दूसरे लोगो को उसके बारे में ढंढेरा पीटते हो ।अब कोई शर्त नही और आइंदा अगर मेरे सामने आएना तो एक हाथ तोड़के दूसरे हाथ में थमा दूंगी समजे । ”

जब रिया अजय को सुना रही थी तब निधि वही खड़ी थी और सारा तमाशा देख रही थी । तभी निधि की नजर राधिका पर पड़ी और वह सब मांजरा समझ गई । रिया जब अजय को सुनाकर निधि के पास आई तब निधि ने रिया से कहा –

” रिया वो लड़की अजय की बहन है। ”

” व्होट ?” रिया ने चौककर कहा फिर आश्चर्य के साथ निधि से हिचकिचाते हुए पूछा –

” सच में !”

निधि ने हा में सर हिलाया और रिया ने अफसोस जताते हुए खुदसे ही कहा –

“ओह माई गॉड यह क्या मैंने कर दिया ? ”

रिया ने पीछे मुड़कर अजय की तरफ देखा अजय फर्श पर पड़े सारे समान को बेग में डाल रहा था। रिया उसके पास गई और ज़ुककर उसका सामान उठाकर बेग में डालने में मदद करने लगी और अजय से कहा –

“आई एम सॉरी मुझे लगा कि .. ”

रिया ने देखा कि अजय मुस्कुरा रहा था तो रिया ने अपनी बात बदलते हुए कहा –

“तुम मुस्कुरा क्यो रहे हो कही थप्पड़ के वजह से दिमाग पर गहरा असर तो नही हुआ न ?”

अजय ने उसके सामने देखा और कहा –

“तुम्हे जलन हो रही थी न मुझे किसी और के साथ देखकर …”

“मुझे और जलन ? माई फुट । मुझे कोई जलन नही हो रही थी । तुम चाहे किसी भी लड़की के साथ घूमो ,मुझे क्या ? ”

“अच्छा मैडम ! इसलिए तुमने कुछ पूछे बिना ही गुस्से में गाल सूजा दिया और सुनाया वो अलग । अब मान भी लो कि तुम्हे मुझे किसी और लड़की के साथ देखकर जलन हो रही थी। ”

रिया को गुस्सा आया और वह बिना कुछ कहे वहां से जाने ही वाली थी तभी अजय ने उसका हाथ पकड़ लिया। रिया ने गुस्से से मुड़कर देखा और अजय से अपना हाथ छुड़वाने लगी तभी अजय ने कहा –

” जब आप किसी से प्यार करते हो तो उसपर सिर्फ अपना ही हक मानते हो औऱ जब कोई और उसपर अपना हक जताए और हमे जलन हो तो उसे भी प्यार कहते है । ”

रिया यह सुन और ज्यादा गुस्सा हो गई और उसने अपना हाथ छुड़वाने के लिए एक झटका मारा जिससे उसके हाथ का बेंगल टूटकर उसके हाथ में लग गया और खून बहने लगा । अजय यह देख रिया पर चिल्लाते हुए बोला –

” बेवकूफ हो क्या किसने कहा झटका देने के लिए देखो लग गई न चोट । ”

अजय ने अपनी जेब से रुमाल निकाल कर बांधने लगा यह देख रिया कहने ही वाली थी कि उसे कोई पट्टी नही बंधवानी पर अजय को देखकर चुप सी हो गई। क्योकि जो लड़का हमेशा हस्ता रहता है आज उसकी आँखों में रिया की छोटी सी चोट के वजह से आंसू थे । अजय पट्टी बांध रहा था और रिया उसे देखे ही जा रही थी कि वहाँ पर राधिका आ गई और बोली –

” यहाँ तो आशिको का मेला लगा हुआ है ।”

यह सुनकर रिया ने अजय के हाथ से अपना हाथ ले लिया । राधिका अजय के तरफ देखते हुए बोली –

” लगता है अब मुझे अकेले ही शॉपिंग करनी पड़ेगी । ओके क्यूटी यह सारा सामान पहले कार में रख देना । ”

अजय ने ओके कहा । राधिका वहां से जाने लगी तभी अजय ने अपनी बहन को आवाज दी और दौड़कर उसके पास गया और अपनी बहन को गले लगकर आई लव यू कहा । राधिका ने मुस्कुराकर कहा –

” बहोत मस्का मार लिया हा , अब जा जी ले अपनी जिंदगी। ”

राधिका यह कहकर चली गई । अजय वापिस आया और निधि से कहा –

” हाई निधि ! शादी की शॉपिंग कैसी चल रही है ?”

“फर्स्ट क्लास। ”

रिया बीच में बोल उठी –

” एक मिनट ! इसे कैसे पता चला कि हम शादी की शॉपिंग कर रहे है ?”

निधि ने मुस्कुराकर कहा –

” असल में अजय ने ही मुजे राज को शादी के लिए प्रोपोज़ करने को कहा था । ”

■■■■■■■■■■■■■■★★★■■■■■■■■■■■■■

अजय रिया और निधि शॉपिंग करने के बाद लंच करने के लिए उसी मॉल के एक रेस्टोरेंट में गए और टेबल पर बैठे। सबने अपना आर्डर वेटर को दिया सिवाय अजय के अजय ने सिर्फ सॉफ्टड्रिंक मंगवाई थी । यह देख रिया को अजीब लगा पर वो चुप रही क्योकि वो अजय को बोलने का मौका नही देना चाहती थी और निधि राज से फोन पर बात कर रही थी तो उसे पता ही नही था कि अजय ने क्या आर्डर किया है । थोड़ी देर में सबके आर्डर आ गया अजय ने रिया से कहा-

“रिया, तुम्हारे हाथ में चोट लगी तो तुम बुरा न मानो तो मैं खाना खिला दु तुम्हे । ”

यह सुन निधि के मुह से निकला –

“अव्व सो रोमांटिक ( aww so romantic) !”

रिया ने कहा –

” शट अप निधि, और आप महाशय यह कृपा क्यो करना चाहते है मुझपर ? ”

“तुम्हे खाते वक्त दर्द होगा न इसलिए ”

“यह दर्द भी तो तुम्हारा ही दिया हुआ है और दर्द होगा तो भी मुझे होगा उससे तुम्हे क्या फर्क पड़ेगा ? ”

” मुझे फर्क पड़ता है रिया में चाहता हु की तुम हमेशा खुश रहो ,तुम्हारे चेहरे पर हमेशा मुस्कुराहट बनी रहे और जब भी तुमपर कोई दर्द आए तब मैं हमदर्द बनकर उस दर्द को ले लूं। ”

“अच्छा ! ”

रिया ने यह कहकर टेबल पर पड़े नमक के डिब्बे को खोलकर पूरा नमक अपनी थाली में डाल दिया । फिर मिर्च पावडर के डिब्बे को भी अपनी थाली में खाली किया। फिर इस सब को मिक्स करके अजय के तरफ बढ़ा दी और कहा –

” मेरी खुशी के लिए अब इसे खाओ ”

निधि ने बीच में कहा –

“आर यु मेड? यह इंसान तो क्या जानवर भी नही खा पाएंगे। अजय यह सिर्फ मजाक कर रही है । ”

“में मजाक नही कर रही आई एम सिरियस । ”

अजय ने उस थाली को देखा और फिर कहा –

“में इसे नही खा सकता । ”

” बस निकल गई मोहब्बत अभी तो बहोत बड़ी बड़ी बात कर रहे थे कि मेरी खुशी के लिये कुछ भी कर सकते हो ,मेरे चेहरे पर मुस्कान लाने के लिये कुछ भी कर सकते हो , तो अब क्या हुआ ? ”

“अगर मैं इसे खाउँगा तो तुम्हे खुशी मिलेगी तुम्हारे चेहरे पर मुस्कान आएगी ? ”

” बेशक ! ”

अजय ने थाली ले ली यह देख निधि बोल पड़ी,

“अजय नही यह तो पागल है तुम भी पागल हो क्या? मत खाना यह खाने लायक नही है ।”

अजय ने निधि की बात को नजरअंदाज किया और खाने ही वाला था कि रिया ने उसे रोका । अजय ने रिया के सामने देखा निधि ने चैन की सास ली तभी रिया बोली –

“पूरा खाना खत्म करना है । ”

अजय यह सुन मुस्कुरा दिया और उसने पहले चमच खाया और उसका चहरा लाल हो गया औऱ आखो में से गंगा जमना बहने लगी। रिया को लगा अभी वह खाना थूक देगा पर अजय ने दूसरा चम्मच खाया । निधि ने उसे पानी दिया पर अजय ने मना कर दिया । फिर तीसरा चमच फिर चौथा अब रिया के चेहरे की मुस्कान जा चुकी थी । उसने अजय को रुकने को कहा पर वह खाये जा रहा था रिया ने देखा कि अजय उसकी बात नही सुन रहा था तो रिया ने वह प्लेट उठाकर फेक दी और अजय को पानी देते हुए कहा –

“पागल हो गए हो क्या । मैं कुछ भी कहूंगी मान लोगे ”

अजय ने मुस्कुरा रहा था, तभी उसकी नाक से खून निकलने लगा । यह देख रिया घबरा गई और उसके मुह से अजय निकल गया और तभी अजय टेबल पर गिर पड़ा यह देख निधि और रिया घबरा गए । रिया ने अजय को होश में लाने की कोशिश की पर अजय होश में नही आया । रिया ने महसूस किया की अजय की सांसे नही चल रही रिया एकदम रुहासी होते हुए बोली –

“सांसे नही चल रही । ”

निधि ने तुरंत राधिका को फ़ोन किया । राधिका उस वक्त उसी मॉल में थी वह भागी भागी रेस्टोरेंट में आई । अपने भाई को देखकर उसके भी होश उड़ गए। वहा पर भीड़ जमा होने लगी थी रिया और निधि अजय को होश में लाने की कोशिश कर रहे थे । राधिका ने अपने भाई को देखा उसके नाक से खून निकलता देख राधिका ने कहा –

“इसने कुछ खाया था क्या ? ”

रिया और निधि ने सब कुछ बताया राधिका सबकुछ सुनकर गुस्से में बोली –

” तुम सब पागल हो क्या उस खाने में लहसुन था । अजय को लहसुन से हाई लेवल एलर्जी है उसकी सांसे रुक जाती है। लहसुन खाने से अगर हमने 30 मिनिट में अजय को हॉस्पिटल नही पहोचाया तो इसकी जान तक जा सकती है ।”

यह सुन रिया के होश उड़ गए ।

( क्रमशः ). To be continued……

Aryan suvada

6 thoughts on “Humdard #6

Leave A Comment