Humdard #3

Episode#3

जगह : रिया का होस्टल

रात के 9 बजे ।

रिया ने खिड़की से देखा कि बाहर बारिश हो रही थी । उसने निधि से कहा –

“पॉल्युशन के कारण अब ऋतुओ में भी चेंजेस हो रहा है वरना फ़रवरी मैं बारिस कभी देखी है ?” रिया ने हिचकी ली । शाम से ही रिया को हिचकियां आ रही थी तभी निधि ने उसे पानी का ग्लास पकड़ाते हुए बोली –

” बारिश की फिक्र छोड़ ओर अपनी हिचकी बन्द करने के बारे में सोच यह ले पानी सात घुट पी जा बन्द हो जाएगी ।”

” शाम से 5 ग्लास पानी पी चुकी हूं पर हिचकी बन्द होने का नाम नही ले रही एक तो तेरा वह लोवोलोजिस्ट भी मिलने नही आया , ऊपर से मेरी क्लास भी मिस हुई और अब यह हिचकी । ”

” नाम से याद मेरी माँ कहती है कि जब तुम्हे कोई दिल से याद करता है तब तुम्हे हिचकियां आती है और हम उस याद करने वाले का नाम ले ले तो हिचकियां बन्द जो जाती है लगता है तुम्हे भी कोई याद कर रहा है । ”

“व्हाट नॉनसेंस ? ऐसा कुछ भी नही होता ओके इसके पीछे साइंटिफिक रीज़न होता है कोई याद करे तो हिचकी व्हाट नॉनसेंस ” बंसी ने जरा सा मुस्कुराया और हिचकी ली यह निधि को अच्छा नही लगा और वह बाथरूम मैं फेस वॉश करने चली गई । रिया अपने बेड पर बैठी तभी निधि का फ़ोन बजा । रिया ने देखा की स्क्रीन पर अननोन नम्बर बता रहा था । रिया ने कहा –
” निधि तेरा फ़ोन बज रहा है ”

निधि उस वक़्त फेस वॉश कर रही थी उसने कहा –

“रिया प्लीज फ़ोन रिसीव कर ले में अभी आई ।”

रिया ने निधि को ओके कहकर हिचकी लेते हुए फ़ोन रिसीव किया सामने फोन पर अजय था रिया ने कहा –

” हेलो कौन ? ”

“हे निधि में अजय बोल रहा हु । ”

“अजय “रिया के मुह से अपना नाम सुनकर उसका दिल फिरसे जोरो से धड़कने लगा ।वह यह समझ नही पाया कि ऐसा कैसे हुआ . वही दूसरी तरफ रिया की हिचकी अपने आप बंद हो गई । तभी वहां निधि आ गई और रिया ने उसे फोन दे दिया तभी अजय ने कहा –

“नाइस वॉइस । आई एम सो सोरी की मैं आज आपसे मिल नही पाया………”

निधि अजय से बात करके वापिस आई तो उसने देखा कि रिया की हिचकी बन्द हो चुकी थी । रिया ने निधि को देखा तो कहा –

“देख हिचकी अपने आप बन्द हो गई और तू है कि ( रिया ने निधि के आवाज़ की नकल करते हुऐ ) कोई याद कर रहा होगा ।”

■■■■■■■■■■■■■■■★★★■■■■■■■■■■■■

अगले दिन

सुबह

अजय सो रहा था तभी राधिका ने अजय को जगाते हुए कहा –

“ओय क्यूटी नास्ता बना दिया है जब उठ तब नास्ता कर लेना मैं जा रही हु । ”

अजय उठते हुए बोला – दी आज तो संडे है ना तो हॉस्पिटल में तो छुट्टी होती है तो आप कहा जा रही हो ।

” में हॉस्पिटल नही एयरपोर्ट जा रहीं हूं । ”

“एयरपोर्ट वो भी सुबह सुबह मम्मी आ रही है क्या ? ”

“नही क्यूटी विक्रम लंदन से आ रहा है तो बस उसे रिसीव करने जा रही हु , ( राधिका शरमाते हुए मुस्कुराई ) पर उसके लिए गिफ्ट लेना भूल गई । ”

“अब क्यो आ रहा है , बर्थडे तो कल चला गया . अब क्या पानी पूरी बेचने आ रहा है क्या कमीना । ”

यह सुन राधिका एकदम गुस्सा हो गई और कहा –

अजय जुबान संभाल के बोल पहले कह देती हूं कि विक्रम के बारे मे कुछ बुरा नही सुनूँगी समजे । कल से वैलेंटाइन वीक शुरू हो रहा है तो वो यह वैलेंटाइन वीक सेलिब्रेट करने आ रहा है और तुम्हारी प्रॉब्लम क्या है विक्रम से हा वो मेरा बॉयफ्रेंड है , इसलियें तुम उससे नफरत करते हो । पूरी दुनिया को प्यार का पाठ पढ़ाते हो , उनकी लव प्रॉब्लम सॉल्व करते हो , पर अपनी बहन के प्यार मैं खुद अड़चन बनते हो । तुम भी दूसरे की तरह ही हो ।

अजय ने राधिका की बात काटते हुए बोला ,

“बस बस सुबह सुबह क्यो लेक्चर फाड् रही है ,रिलैक्स ओके । मुझे तुम्हारे और विक्रम के रिलेशन से कोई प्रॉब्लम नही है समझी । बस कभी कभी अंदर का भाई जाग जाता है और उस टेबल के डोअर के अंदर कुछ रखा है तेरे लिए वो ले लेना शॉर्ट टेम्पर । ”

अजय चादर खुद पर डालकर फिरसे सो गया । राधिका समझ गई कि अजय को बुरा लगा है पर उसे नजरअंदाज करते हुए टेबल के पास गई और डोअर खोला तो उसमें एक गिफ्ट पड़ा था । उसने वह गिफ्ट उठाया उसपर लिखा था । ” टू विक्रम फ्रॉम योर स्वीटहार्ट राधिका ।” राधिका को अपने शब्दों पर अफसोस हुआ । वह अजय के पास आई और बेड पर बैठी और उसने अपने भाई को बुलाया पर अजय ने कोई जवाब नही दिया । राधिका ने अजय पर से चद्दर खेंचि और कहा –

“अजय सुनना । ”

“सोने दे न । ”

” सॉरी न क्यूटी । तुजे पता है न मैं गुस्से में कुछ भी बोल जाती हूं । आई एम सॉरी । ”

“ओके ओके एक्सप्लेनेशन देनी की जरूरत नही है । चुप चाप उठक बैठक कर ।”

“क्या अभी ? ( अजय ने हा मैं सर हिलाया ) ओके । ”

राधिका जैसे ही उठक बैठक करने गई अजय ने उसे रोका और कहा –

” ठीक है मैंने तुजे माफ किया चल अब जा तू , वरना तेरा विक्रम बिचारा वैट करते करते बोर हो जाएगा । ”

“थैंक यू अजय । ”

उसने अपने भाई के गाल पर किस किया । अजय चिढ़ता हुआ बोला –

” दी कितनी बार कहा है डोंट किस मी । ”

उसने अपना गाल साफ किया । राधिका ने उसकी चुटकी लेते हुए कहा –

“अपनी कैफ़े वाली गर्ल को भी यही कहेगा क्या ? ” राधिका जाने लगी तभी अजय बोला –

सुन ( राधिका ने मुड़कर अजय को देखा ) , शाम को में निधि से मिलने जा रहा हु कोई प्री वैलेंटाइन वीक पार्टी है , तू चलेगी क्या मेरे साथ ? तू अपने विक्रम को भी ला सकती है । ”

” ओके ब्रो ” राधिका यह कहकर चली गई ।

■■■■■■■■■■■★★★■■■■■■■■■■■■■■■■

अजय, राधिका और विक्रम बार टेंडर स्टैंड पर बैठे हुए निधि का इंतजार कर रहे थे । राधिका और विक्रम अपने में मशगूल थे और अजय एक कागज पर पेंटिंग कर के अपना टाइमपास कर रहा था और निधि का वैट कर रहा था । विक्रम और राधिका थोड़े और करीब आ रहे थे तभी अजय ने अपनी पेंटिंग में से नजर नही हटाते हुए पास रखे ग्लास को जोरसे बार टेंडर पर पछाड़ा और राधिका और विक्रम दोनों अलग हो गए । विक्रम दूसरी तरफ देखने लगा और राधिका शरमाते हुए अपने भाई को देखा । अजय ने कहा –

” कंट्रोल मजनू कंट्रोल । ”

राधिका ने अजय के कंधे पर हट बदमाश कहते हुए मारा पर अजय ने अपनी पेंटिंग से नजर नही हटाई । यह देख राधिका ने उस पेंटिंग पर नजर डाली । वह किसी लड़की की पेंटिंग थी । राधिका ने वह पेंटिंग अपने हाथों मैं ले ली । अजय उस पेंटिंग को अपने बहन के हाथो में नही जाने देना चाहता था और उसने छीना जप्ती करना चाहा पर वह पैंटिंग का कागज राधिका के हाथ में आ ही गया । उसने उस पैंटिंग को देखा और कहा – ”

” अहा ! कैफ़े गर्ल । तेरी पसंद तो लाजावाब है । पहली नजर में ही आँखों में बस गई है वाह ।”

दूसरी तरफ उसी वक़्त निधि और रिया ने उस पार्टी में एंट्री मारी । निधि ने रिया से कहा कि में अजय को ढूंढकर आती हु , तुम पार्टी एन्जॉय करो । रिया को पार्टीयो से नफरत थी पर निधि के जबरदस्ती करने पर वह यहां आई थी । रिया जहा भीड़ जमा थी उस तरफ देख रही थी ।

विक्रम उस पेंटिंग को देख रहा था तभी उसने अपनी आँखें ऊपर करके पार्टी पर नजर डाली और सामने रिया थी । उसपर विक्रम की नजर पड़ी । उसने तस्वीर की तरफ देखा और फिरसे रिया की तरफ देखा । उसे निश्चित हुआ कि वह पेंटिंग वाली ही लड़की है । वह बोला-

” अजय ”

“हम्म्म्म…” अजय कोल्ड्रिंक पीने में मशगूल था ।

“तेरे पास कोई मैजिक पैंसिल है क्या जो तू ड्रॉ करता है वो सच में सामने आ जाता है । ”

“क्या बकवास कर रहा है ? ”

अजय और राधिका दोनों ने विक्रम की तरफ देखा उसकी नजर रिया पर ही थी । दोनों बहन भाई ने विक्रम जहा देख रहा था उस तरफ देखा तभी रिया को अपनी नजरो के सामने देख उसका दिल जोरो से धड़कने लगा । राधिका भी अपने भाई की पसंद को देख रही थी तभी अजय ने अपनी दीदी से कहा-

” दी क्या यह कोई परी है ? ”

” व्हाट ? ” राधिका ने हस्ते हुए कहा

” चोक मत स्पाइडर मैन 2 का डायलॉग है । ”

अजय अपने स्टैंड से उठा और रिया की तरफ जाने लगा तभी राधिका ने उसका हाथ पकड़ते हुए बोली –

” कहा जा रहा है ? ”

” अपनी मंज़िल को करीब से देखने । ”

” रुक , (राधिका ने अजय की टाइ ठीक की और उसके ब्लेजर को ठीक किया ) अच्छे से बात करना । जा सिमरन जा , जी ले अपनी जिंदगी । ” यह कहकर हस्ते हुए राधिका ने अजय को धक्का दिया ।

” फिल्मी ” अजय ने हस्ते हुए कहा और रिया की तरफ बढ़ने लगा ।

निधि अजय को ढूंढते ढूंढते बार स्टैंड पर आई और वहां बार टेंडर से अजय के बारे मे पूछने लगी । राधिका ने अपने भाई का नाम सुना और निधि के सामने देखकर बोली –

” निधि राइट ? ”

“हा । आप ? ”

“राधिका । अजय की बहन ।”

” अजय सर ”

“तुम्हारे दिल का इलाज करने के बदले वह अपने दिल का इलाज कर रहा है । ”

राधिका ने हस्ते हुए कहा और अजय जा रहा था उस तरफ इशारा किया । निधि ने उस तरफ देखा । अजय रिया के जितने पास जा रहा था उतना ही उसका दिल और ज्यादा धड़क रहा था । अजय रिया के पास जाकर उसे हाई कहने के बजाय वह बोला – “आई लव यू ।” अजय को अपने बोले गए शब्दो पर भरोसा नही था । रिया एकदम से चौकते हुए बोली-

” व्हाट क्या कहा तुमने ? ”

अजय ने अपनी गलती को सुधारना चाहा और हाई कहने के लिए मुह खोला पर ,

“आई लव यू । ”

दूर खड़ी राधिका ने यह देख अपना सिर पिट लिया । अजय अपने जिंदगी में पहली बार इतना बौखलाया था । उसने अपनी आँखें बंद कर ली । थोड़ी देर दोनों के बीच खामोशी छाई रही । अजय ने एक आँख खोलकर देखा तो रिया मुस्कुरा रही थी । अजय ने अपनी दोनों आँखे खोली तभी रिया बोली

” तुम मुझसे प्यार करते हो ? ”

अजय ने पहले हा में सिर हिलाया और फिर तुरंत ना में । रिया ने अजय का हाथ पकड़ा और जहा भीड़ थी वहां पर अजय को ले गई और अजय भी पीछे पीछे चलने लगा । जब वह भीड़ के पास पहोचे तो रिया ने उससे कहा –

“तुम काफी क्यूट हो एंड आई लाइक ए क्यूट गाई पर दिक्कत यह है कि मैं तुम्हे जानती नही हु और मुझे पता भी नही है कि तुम मुझसे कितना प्यार करते हो , तो तुम्हे मेरा प्यार जितने के लिए यह कॉन्टेस्ट जितना होगा । ”

अजय ने उस कॉन्टेस्ट की तरफ देखा तो वहाँ पर एक कैनवास था और पास में कुछ कलर के डिब्बे पड़े थे । तभी वहां खडे एंकर ने कहा –

हेलो एवरीवन , आप सभी जानते है कि शाहजहाँ ने अपनी मोहब्बत बया करने के लिए ताजमहल बनाया था और हर लड़की भी यही चाहती है कि उसका शाहजहाँ भी उसके लिए ताज महल बनाये पर यह पॉसिबल नही है , राइट ? पर आज हम यह पॉसिबल बनाएंगे । यहा रखे कैनवास पर आप जिनसे भी प्यार करते है उनके लिये आपको यह इस रंग की मदद से ताजमहल बनाना है और ताजमहल बनने के बाद जिस लड़की के लिए यह ताजमहल बना होगा उस लड़की को उस कैनवास को किस करके इस ताजमहल को स्वीकार करना होगा । ”

अजय ने रिया की तरफ देखा । रिया ने मुस्कुराते हुए सर हिलाया । अजय ने उस कांटेस्ट में भाग लिया और रिया के लिए ताजमहल बनाने लगा । ताजमहल बनाते बनाते वह रिया को देख लेता और रिया उसे देख मुस्कुरा देती । आधे घंटे बाद अजय ने कैनवास पर ताज महल बना लिया और उसने रिया की तरफ देखा । अब रिया की बारी थी । वह कैनवास के पास आई और अजय के सामने मुस्कुराई और कैनवास पर झुकी पर वह तुरंत खड़ी हुई और भीड़ की तरफ गई । भीड़ में एक बन्दा सिगरेट जला रहा था । रिया ने उस बंदे के हाथ से लाइटर ले लिया और कैनवास के पास आई और लाइटर चालू करके कैनवास पर रखा और कैनवास धु धु करके जलने लगा । सबसे ज्यादा अजय चौका था । रिया अजय के पास आई और अजय के गाल पर खिंच कर चाँटा लगया । सब और भी चौक गए तो कही लोग हसने लगे। राधिका यह देख अपने भाई के पास दौड़कर आई । वह रिया के साथ झगड़ने ही वाली थी कि अजय ने आखो से ही मना कर दिया । राधिका वही खड़ी रह गई । रिया ने अजय से कहा –

” जब भी तुम किसी लड़की को प्रोपोज़ करोगे यह थप्पड़ तुम्हे जरूर याद आएगा । और यह प्यार होता क्या है ? ( अजय ने रिया की तरफ देखा ) तुम लोग अपने टाइमपास को प्यार का नाम दे देते हो । जब लाइफ से बोर हो जाओ तो प्यार नाम का टाइमपास कर लेते हो । प्यार जैसी कोई चीज है ही नही इस दुनिया में और रिया खुराना प्यार जैसी फालतू चीजो में अपना वक्त बर्बाद नही करती समझे । ”

रिया वहां से जाने लगी तभी अजय ने चुटकी बजाते हुए कहा –

” ओ नफरत की देवी । ( रिया यह सुन रुकी और उसने अजय की तरफ देखा अजय उसके पास आया ) इतनी जल्दी भी क्या है जाने की , जरा हमे भी तो सुनती जाइये । आपने मेरा प्यार ठुकराया कोई बात नही , आपने मेरा ताजमहल जलाया कोई बात नही , आपने मुझे चाँटा तक मारा नो प्रॉब्लम , पर आपने प्यार के बारे में उल्टा सीधा कहा यह ग़लत बात है । यह मोहब्बत ही तो हमे जीने की वजह देती है , वरना इस दुनिया में और रखा ही क्या है ? ”

“प्यार जैसी कोई चीज नही है इस दुनिया में । ” रिया ने दूसरी तरफ देखकर कहा

“ओके प्रूव इट ! अच्छा चलो तुमने मुझे एक गेम खिलाया था न अब मैं तुम्हे एक गेम और चैलेंज देता हु । ”

” गेम ? और कैसा चैलेंज ? ”

” यस चैलेंज तुम अपनी नफरत पर टिकी रहो और में अपने प्यार पर । कल से वैलेनटाइन वीक शुरू हो रहा है । इन सात दिनों में में अपने प्यार से तुम्हारा दिल जीतूंगा। और तुम वैलेंटाइन डे पर खुद मुझे प्रोपोज़ करोगी । ”

” सपने देखना छोड़ दो मिस्टर , तुम्हे प्यार के बदले सिर्फ नफरत ही मिलेगी ।

“ओके तो चैलेंज एक्सेप्ट करो । देखते है तुम्हारी नफरत जीतती है या मेरा प्यार । ”

“ओके डन । पर मेरी भी एक शर्त है , अगर तुम हारे तो तुम यह शहर ही छोड़ दोंगे बोलो मंजूर । ”

“मंजूर है । और हा नफरत करने के लिए थैंक्स क्योकि नफरत भी हम अपनो लोग से ही करते है । आपने हमे अपना तो माना । एंड लव यू अगेन । ( अजय यह कहकर जाने लगा , रिया उसे जाते हुए देख रही थी तभी अजय मुड़ा और बोला ) और हा गेट रेडी फ़ॉर द जर्नी ऑफ लव । ”

अजय मुस्कुराया ।

( क्रमशः )

हेलो दोस्तो कैसा लगा आपको यह एपिसोड यह कमेंट करके बतायेगा जरूर आप हमदर्द #4 पढ़ना चाहते है कि नही यह भी बताएगा जरूर और इसे लाइक और शेयर जरूर करे । क्या होगा इस सात दिनों में क्या अजय की मोहब्बत जीतेगी या रिया की नफरत । आप भी मोहब्बत की सफर में सवार होना चाहते है तो जरूर पढिये हमदर्द #4

_ Aryan suvada

10 thoughts on “Humdard #3

Leave A Comment