कठूआ गैंग रेप

जाती और धर्म की लड़ाई में

इंसानियत कही खो दी हमने

आज खुद को इंसान कहने में भी शर्म आती है

3 thoughts on “कठूआ गैंग रेप

Leave A Comment